Sunday, 09 February 2020 03:04

कभी अरबपतियों में शामिल रहे अनिल अंबानी : अब जीरो है

Written by News Netrwork
Rate this item
(0 votes)

एशिया के सबसे अमीर आदमी मुकेश अंबानी के भाई अनिल अंबानी को चीन के तीन बैंकों के साथ अपने विवाद में 100 मिलियन डॉलर अलग करने का आदेश दिया गया है। हालांकि, उन्होंने यहां तक कह दिया कि उनकी नेटवर्थ अब जीरो है। लंदन की कोर्ट में बैंकों द्वारा की गई फाइलिंग के अनुसार, लगभग 700 मिलियन डॉलर का डिफॉल्टेड लोन है। अनिल ने कहा कि मेरे निवेश का मूल्य गिर गया है।मेरी लाइबिलटीज (देयताओं) को ध्यान में रखने के बाद मेरी नेट वर्थ जीरो है। सारांश में, मेरे पास ऐसी कोई सार्थक संपत्ति नहीं है, जिसे इन कार्यवाहियों के प्रयोजनों के लिए बेचा जा सके। मुकदमा तीन सरकारी चीनी बैंकों द्वारा दायर किया गया था, जो तर्क देते हैं कि उन्होंने अंबानी की रिलायंस कम्युनिकेशंस लिमिटेड को साल 2012 में 925 मिलियन डॉलर का ऋण इस शर्त के साथ प्रदान किया था कि वह व्यक्तिगत रूप से ऋण की गारंटी देते हैं।अंबानी की टिप्पणियों का खुलासा किया गया क्योंकि उन्होंने मुकदमे के आगे अदालत के साथ करोड़ों डॉलर जमा करने से बचने की कोशिश की। शुक्रवार शाम को न्यायाधीश डेविड वैक्समैन ने अंबानी को छह सप्ताह के भीतर अदालत के खाते में 100 मिलियन डॉलर जमा कराने का आदेश दिया। अंबानी की योजना है कि वह इस आदेश के खिलाफ अपील करेंगे।बताते चलें कि 60 वर्षीय अनिल अंबानी मुकेश अंबानी के भाई हैं, जिनकी संपत्ति 56.5 बिलियन डॉलर है और वह एशिया के सबसे धनी व्यक्ति हैं। दूसरी ओर, अनिल अंबानी की हाल के वर्षों में निजी संपत्ति में कमी होती रही है, जिसके चलते उनकी अरबपति स्थिति अब नहीं रही है। उनके रिलायंस कम्युनिकेशंस ने पिछले साल दिवालियापन के लिए आवेदन दायर किया था।

 

Read 9 times

संग्रहीत न्यूज