स्कैनर इंडिया को झारखंड के सभी जिलों में बेब इंफार्मर की आवश्यकता है। बेब इंफार्मर बनने के लिए 7050607516 पर  संपर्क करें अथवा This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.पर अपना बायोडाटा भेजें।

 

 

प्रदेश

रांची : झारखंड में कोरोना संकर्मण काफी तेजी से अपना दायरा फैला रहा है. बड़ी संख्या में रोज संक्रमित निकल रहे हैं. 14 जुलाई मंगलवार को लातेहार से 40 CRPF जवान कोरोना पॉजिटिव निकले हैं. जिसके बाद सभी को लातेहार कोविड वार्ड में भर्ती किया गया है.इससे पहले आज रामगढ़ से 14 और रांची से 07 कोरोना पॉजिट मरीज मिले. रांची से मिले सभी मरीज एक ही परिवार के सदस्य हैं. इनके परिवार का एक सदस्य पहले से ही संकर्मित है. इन संक्रमितों के साथ झरखंड में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की कुल संख्या 4039 हो गयी है.इधर सूबे में आज कोरोना से 04 लोगों की मौत हो गयी है. इनमें रांची के डंगराटोली निवासी एक व्यक्ति, 65 साल के गुमला निवासी एक व्यक्ति, जमशेदपुर के कदमा  की रहने वाली एक महिला और धनबाद के जामाडोभा का रहने वाला एक पुरूष शामिल है.अब तक 2351 लोग स्वस्थ हो चुके हैं. 1637 एक्टिव मामले हैं और 37 लोगों की मौत हो चुकी है.

राजस्थान में एक महत्वपूर्ण राजनीतिक घटनाक्रम में उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने रविवार रात दावा किया कि अशोक गहलोत सरकार अल्पमत में है और 30 से अधिक कांग्रेस और कुछ निर्दलीय विधायकों ने उन्हें समर्थन देने का वादा किया है।एक अधिकारिक बयान में पायलट ने कहा कि वह सोमवार को होनेवाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे।बयान के अनुसार,‘‘राजस्थान के उपमुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता सचिन पायलट सोमवार को होने वाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे।’’पायलट ने कहा कि 30 से अधिक कांग्रेस और कुछ निर्दलीय विधायकों द्वारा उन्हें समर्थन देने के वादे के बाद अशोक गहलोत सरकार अल्पमत में है।शनिवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ओर से सरकार को भाजपा द्वारा अस्थिर करने के प्रयास का आरोप लगाने के बाद राजनीतिक संकट के बीच पायलट की यह पहली प्रतिक्रिया है।यह आरोप लगाया गया था कि भाजपा मध्यप्रदेश की तर्ज पर सरकार को अस्थिर करने का प्रयास कर रही है, जबकि पार्टी के विधायक और निर्दलीय विधायक गहलोत के नेतृत्व में विश्वास प्रकट करने के लिये उनके निवास पर मुलाकात कर हैं।
पायलट के समर्थक माने जाने वाले कुछ विधायकों के शनिवार को दिल्ली में होने के वजह से गुटबाजी की चर्चा को हवा मिली थी।हालांकि तीन ऐसे विधायकों ने जयपुर आकर स्थिति स्पष्ट करते हुए कहा कि दिल्ली वे अपने व्यक्तिगत कारणों से गये थे।दानिश अबरार, चेतन डूडी और रोहित बोहरा ने कहा कि उनके बारे में मीडिया ने आंशका जताई थी, लेकिन वो पार्टी आलाकमान के निर्देशों का पालन पार्टी के एक सच्चे सिपाही के जैसे करेंगे।रविवार देर शाम इन विधायकों द्वारा मुख्यमंत्री आवास पर बुलाई गयी प्रेस वार्ता के बाद पायलट की ओर से बयान जारी किया गया।मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई है, जिसके बारे में पायलट ने कहा कि वो इस बैठक में शामिल नहीं होंगे।

 

कैंसर पीड़ित व्यक्ति की मौत (Death) को सड़क हादसे दिखा 25 लाख रुपये की बीमा राशि का क्लेम कर हड़पने पर शहर थाना पुलिस (police) ने मृतक की पत्नी समेत दो लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी, फर्जीवाड़े का सहारा लेने समेत विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज (Report filed) किया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।बजाज एलायंस इंश्योरेंस कंपनी चंडीगढ़ के मैनेजर ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि चार मई 2017 को अजमेर बस्ती निवासी रामेश्वर की पत्नी रेनू ने उसके पति की सड़क हादसे में मौत होने पर बीमा क्लेम का दावा किया था। जिसमें गांव धर्मखेड़ी निवासी विनोद ने भी महिला का सहयोग किया था। सड़क हादसे की एवज में रेनू को क्लेम राशि 25 लाख रुपये मिली थी। बीमा कंपनी ने जब मामले की जांच की तो सामने आया कि रामेश्वर कैंसर से पीड़ित था और उसका इलाज चल रहा था। रेनू ने विनोद के साथ मिलीभगत कर फर्जीवाड़े को अंजाम दिया।तीन जुलाई 2017 को रामेश्वर भिवानी रोड रेलवे फाटक के निकट सड़क हादसे में घायल दिखाया गया और उसका पीजीआई रोहतक में पोस्टमार्टम करवाया गया। जबकि भिवानी रोड पर सड़क हादसे की सूचना शहर थाना पुलिस में भी दर्ज नहीं है। शहर थाना पुलिस ने इंश्योरेंस कंपनी के मैनेजर की शिकायत पर रेनू तथा विनोद के खिलाफ धोखाधड़ी, फर्जीवाड़े को अंजाम देने समेत विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।शहर थाना के जांच अधिकारी रामकुमार ने बताया कि मृतक व्यक्ति कैंसर से पीड़ित था। सड़क हादसे में मौत दिखाकर 25 लाख रुपये बीमा राशि को क्लेम करने की शिकायत दी गई थी। जिसके आधार पर मृतक की पत्नी समेत दो लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

 

 

होटल - रेस्टोरेंट को टेक-अवे और होम डिलीवरी करने का आदेश

 जिले में कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने तथा लोगों को सुरक्षित रखने के उद्देश्य से जिला प्रशासन ने गोलगप्पे, चाउमीन, चाट-पकौड़ी सहित अन्य खाद्य सामान बेचने वाले स्ट्रीट वेंडरों पर तत्काल प्रभाव से अगले आदेश तक रोक लगाने का निर्णय लिया है। इस संबंध में अनुमंडल दंडाधिकारी श्री राज महेश्वरम ने बताया कि उपायुक्त सह अध्यक्ष, जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकार, श्री अमित कुमार ने लोगों के सुरक्षा हितों को ध्यान में रखकर तथा कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने के उद्देश्य से स्ट्रीट वेंडरों पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने का निर्देश दिया है। साथ ही होटल एवं रेस्टोरेंट में केवल टेकअवे तथा होम डिलीवरी की सुविधा प्रदान करने का निर्देश दिया है।उन्होंने बताया कि स्ट्रीट वेंडरों द्वारा कोविड-19 के फैलाव के रोकथाम के दिशानिर्देशों का उल्लंघन किया जा रहा है। साथ ही बड़ी संख्या में लोग स्ट्रीट वेंडरों के पास पहुंच रहे हैं और शारीरिक दूरी का उल्लंघन कर रहे हैं। इससे कोरोनावयरस के संक्रमण का खतरा निरंतर बढ़ता जा रहा है।होटल एवं रेस्टोरेंट को केवल टेक-अवे और होम डिलीवरी का निर्देश दिया है। किसी भी परिस्थिति में लोगों को बैठाकर खिलाने पर वैसे होटल व रेस्टोरेंट संचालक पर आपदा प्रबंधन अधिनियम तथा लॉकडाउन उल्लंघन के तहत कार्रवाई की जाएगी। इस आशय का निर्देश सभी थाना के थाना प्रभारियों को दिया गया है।इसके साथ उपायुक्त ने आवश्यक गतिविधियों को छोड़कर सभी लोगों के लिए रात के 9:00 बजे से सुबह के 5:00 बजे तक आवागमन पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया है। सभी सार्वजनिक स्थानों, कार्यस्थल एवं यातायात के दौरान मास्क पहनना या चेहरे को ढकना अनिवार्य है। सभी व्यक्ति सार्वजनिक स्थलों पर आपस में कम से कम 6 फीट की दूरी बनाए रखेंगे।शादी विवाह समारोह में 50 व्यक्ति से अधिक लोग सम्मानित नहीं होंगे। शव यात्रा या अंत्येष्टि के दौरान 20 व्यक्ति से अधिक लोग सम्मिलित नहीं होंगे। ऐसे समारोह में सामाजिक दूरी का पालन एवं मास्क पहनना तथा चेहरे का ढका होना अनिवार्य रूप से जरूरी होगा। आवश्यक एवं चिकित्सा गतिविधियों को छोड़कर 65 वर्ष से अधिक उम्र के वरिष्ठ नागरिकों एवं 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों तथा गर्भवती महिलाओं को घर में रहना होगा।

पटना: कोरोना संकट के बीच विपक्ष साल के आखिर में होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव टालने की मांग कर रहा है.तेजस्वी यादव ने इस संकट की घड़ी में चुनाव नहीं कराने की बात कही है।तेजस्वी के बाद अब एनडीए की सहयोगी लोजपा सुप्रीमो चिराग पासवान की तरफ से फिलहाल चुनाव नहीं कराए जाने की मांग की गई है. चुनाव टालने को लेकर तेजस्वी यादव और चिराग पासवान के सुर एक जैसे हैं. तेजस्वी के बाद अब चिराग पासवान ने भी चुनाव को फिलहाल टालने की मांग कर दी है. इसके बाद अब बिहार बीजेपी की तरफ से भी प्रतिक्रिया आई है। बिहार भाजपा प्रवक्ता डॉo निखिल आनंद ने कहा है कि भाजपा संगठन और विचारधारा की बुनियाद पर लगातार काम करने वाली पार्टी है, जिसने कोरोना त्रासदी के दौर में राष्ट्रव्यापी जनसेवा की एक मिशाल कायम की है। भाजपा सिर्फ चुनाव लड़ने वाली पार्टी नहीं है बल्कि जनसेवा- राष्ट्रसेवा के काम में लगातार संलग्न हैं। भाजपा सिर्फ चुनाव की चिंता वाली राजनीति नहीं करती है लेकिन संगठन और विचारधारा की ताकत की बदौलत हर समय चुनाव के लिए तैयार रहती हैं।विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा बिहार विधानसभा चुनाव होने या न होने को लेकर इनदिनों लगातार की जा रही टिप्पणियों पर निखिल आनंद ने कहा कि हर राजनीतिक दल चुनाव के बारे में अपना विचार प्रकट करने के लिए स्वतंत्र है, लेकिन चुनाव से संबंधित हर विषय चुनाव आयोग के दायरे और निर्णय की बात होती है। भाजपा चुनाव आयोग जैसी महत्वपूर्ण संस्था का दिल से सम्मान करती है और अक्टूबर- नवम्बर 2020 में आसन्न विधानसभा चुनाव को लेकर चुनाव आयोग के हर निर्णय का स्वागत करेगी।निखिल आनंद ने कहा कि चुनाव आयोग को जो कार्य क्षेत्र है उसको लेकर राजनीतिक बयानबाजी ठीक नहीं है और बेहतर हो कि जिस पार्टी या व्यक्ति की जरूरत हो वह आयोग को लिखित या मौखिक सुझाव दे जिसके लिए चुनाव आयोग के दरवाजे हमेशा खुले होते हैं। चुनाव आयोग स्वतंत्र, निष्पक्ष और साथ ही कोरोना के बाद के दौर में सुरक्षित चुनाव कराने की प्रक्रिया पर काम कर रही है। स्पष्ट बात है कि अगर चुनाव आयोग अपनी तैयारियों से संतुष्ट होगा और उनके विचार में माहौल चुनाव के अनुकूल होगा तो निश्चित तौर पर चुनाव समय पर ही होगा।

 रांची: जिले में अपराधी लगातार लूट, हत्या और ठगी की घटना को अंजाम देने में सफल हो रहे हैं. ताजा मामला कांके के सुकुरूहूटु रिंग रोड के पास का है, जहां एक बस डिपो बनाने के लिए व्यक्ति की जमीन का सरकार ने अधिग्रहण किया गया था. अधिग्रहण के बाद सरकार की तरफ से महरू मुंडा के खाता में 13,92,768 रुपए दिए गए थे, लेकिन गांव के तीन लोगों ने धोखे से व्यक्ति को बरगला कर खाते से रुपए गायब कर दिए. इसी कड़ी में पीड़ित महरू मुंडा ने थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी है और प्रशासन से मदद की गुहार लगा रहा है.

:  क्या है मामला

 कांके सुकुरूहूटु रिंग रोड के पास बस डिपो बनाने के लिये जमीन मालिक महरू मुंडा की जमीन को सरकार ने अधिग्रहण किया था. जिसके एवज में भू-अर्जन विभाग झारखंड ने महरू मुंडा के खाता में 1392768 रुपए डाले. महरू मुंडा अनपढ़ और अत्यंत गरीब है, इसी का फायदा उठाते हुए संजीव कुमार महतो ने 10,000 रूपये और बादल सिंह मुंडा ने 1,20,000 रुपए और शंकर खलखो जो अपने आप को भू-अर्जन विभाग रांची झारखंड का कर्मचारी बताता है ने 4,50,000 रुपए की ठगी कर ली. और धोखे से महरू मुंडा से अंगूठे का निशान लेकर बैंक की मिलीभगत से उसके खाता से अपने खाता में रूपया ट्रांसफर करा लिया है।

 

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने लातेहार जिला में भाजपा के जिला  महामंत्री जयवर्धन सिंह की हत्या

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने लातेहार जिला में भाजपा के जिला  महामंत्री जयवर्धन सिंह की हत्या पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि ऐसा प्रतीत होता है कि झारखंड में जंगलराज वापस आ गया है। उन्होंने कहा राज में विधि व्यवस्था की पूरी स्थिति चौपट हो गई है। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। राज्य में पिछले 6 महीने में नक्सली और अपराधिक घटनाओं में अप्रत्याशित रूप से वृद्धि हुई है।नक्सलियों का मनोबल इतना बढ़ गया है कि अब लेवी मांगने की घटनाएं आम हो गई हैं ।आम नागरिकों  को टारगेट किया जा रहा है ।राज्य सरकार मूकदर्शक बनी हुई है।प्रतुल ने कहा की भारतीय जनता पार्टी इस हत्या की कड़ी निंदा करती है और राज्य सरकार से मांग करती है कि वह इस घटना के पीछे अपराधियों और साजिश कर्ताओं को गिरफ्तार करें उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव से पूर्व प्रशासन के निर्देश पर जयवर्धन सिंह ने अपना लाइसेंसी हथियार जमा कर दिया था। चुनाव के बाद इनके उन्होंने लिखित आवेदन देकर हथियार को वापस रिलीज करने की मांग की ।लेकिन प्रशासन ने इस पर कोई कार्यवाही नहीं की ।इसके लिए दोषी प्रशासनिक अधिकारियों पर भी कड़ी कार्रवाई हो।प्रतुल ने कहा कि पूरे राज्य में हाल में नक्सली और आपराधिक घटनाओं में बेतहाशा वृद्धि हुई है। साहिबगंज में फिरौती के लिए व्यवसाई की हत्या कर दी जाती है। पुलिस अधिकारियों पर  अपराधी गोलियां चला रहे हैं।व्यवसायियों से सीधे फोन करके लेवी भी मांगा जा रहा है। भाजपा के शासनकाल में संगठित गिरोह और नक्सली बैकफुट पर थे। लेकिन पिछले छह महीनों में इनका मनोबल बढ़ गया है।प्रतुल ने कहा कि अगर शीघ्र इस घटना के पीछे भी लिप्त अपराधियों/ नक्सलियों और साजिशकर्ताओं की गिरफ्तारी नहीं होगी तो भाजपा आंदोलन करने पर मजबूर हो जाएगी

सावन के पहले बाबा विश्वनाथ के भक्तों को वाराणसी डाकघर ने बड़ी सौगात दी है। वाराणसी डाकघर देशभर में बाबा के भक्तों को घर बैठे ही काशी विश्वनाथ का प्रसाद पहुंचाएगा। भक्त महज 251 रुपये के ई-मनी ऑर्डर के जरिए बाबा का प्रसाद पा सकेंगे। वाराणसी डाकघर और श्री काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के सहयोग से ऑनलाइन प्रसाद डिस्टिब्यूशन सेवा की शुरुआत मंगलवार को वाराणसी के कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने की है।कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि कोरोना महामारी के चलते करोड़ों भक्त बाबा विश्वनाथ के दर्शन को काशी नहीं आ पा रहे हैं। इसकी वजह से भक्तों में बहुत निराशा है। भक्त और बाबा विश्वनाथ के बीच दूरी को खत्म करने के लिए ऑनलाइन प्रसाद की सेवा शुरू की गई है। मंदिर प्रशासन ने इससे पहले भक्तों को बाबा विश्वनाथ का दर्शन कराने के लिए ऑनलाइन दर्शन की शुरुआत की थी ।

ऐसे करा सकतें है बुकिंग


काशी विश्वनाथ के प्रसाद पाने के इच्छुक श्रद्धालुओं को बाबा का प्रसाद पाने के लिए प्रवर अधीक्षण डाकघर वाराणसी के नाम 251 रुपये का ई-मनी ऑर्डर भेजना होगा। मनी ऑर्डर पर श्रद्धालुओं को अपना पूरा नाम, पता, मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी देना अनिवार्य होगा। मनी ऑर्डर रिसीव होने के बाद श्रद्धालुओं के नंबर पर मेसेज के जरिए जानकारी प्राप्त होगी और उसके बाद उनका प्रसाद दिए गए पते पर भेज दिया जाएगा।

प्रसाद पैकेट में उपलब्ध है ये सामान


251 रुपए के इस प्रसाद पैकेट में भक्तों को काशी विश्वनाथ की भस्म, रुद्राक्ष की माला, ड्राई फ्रूट्स के पैकेट, शिव चालीसा, काशी विश्वनाथ की तस्वीर, कलेवा, महामृत्युंजय यंत्र और काशी विश्वनाथ का सुनहरा सिक्का मौजूद है।

पहले दिन आए 68 ऑर्डर
काशी विश्वनाथ मंदिर के ऑनलाइन प्रसाद वितरण सेवा शुरू होने के साथ ही पहले ही ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यम से देश के अलग-अलग हिस्सों से 68 श्रद्धालुओं ने प्रसाद की बुकिंग कराई है। भक्तों से प्राप्त इन सभी ऑर्डर को जल्द ही उन तक पहुंचाया जाएगा।

कानपुर में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के करीबी थानेदार के खिलाफ ऐक्शन लिया गया है। चौबेपुर थाने के एसओ विनय तिवारी को सस्पेंड कर दिया गया है। दबिश देने गई पुलिस टीम पर हमला कर कायराना तरीके से 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में एसओ विनय तिवारी की भूमिका को संदिग्ध माना जा रहा है। एसटीएफ इनसे पूछताछ भी कर रही थी। विनय तिवारी को सस्‍पेंड करने के बाद कृष्‍णा मोहन राय को चौबेपुर का इंस्‍पेक्‍टर बनाया गया है, साथ ही संतोष कुमार सिंह को सीओ बिल्‍हौर नियुक्‍त किया गया है।

भागलपुर में बालू माफिया का दु:साहस देखने को मिला है। बालू माफिया ने पुलिस पर हमला बोल दिया है। हमले में दारोगा और हवलदार घायल हो गये हैं। वहीं पुलिस का जिप्सी क्षतिग्रस्त हो गया है।जगदीशपुर थाना क्षेत्र के फतेहपुर गांव में देर रात दुस्साहसी बालू माफिया और उसके गुर्गों ने मिलकर पुलिस जिप्सी पर पथराव कर दिया। वहीं इस पथराव में पुलिस अवर निरीक्षक अनिल सिंह और  हवलदार अब्बाश खान गंभीर रूप से घायल हो गये हैं। जबकि पुलिस जिप्सी भी पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गयी।  पुलिस ने भी सख्ती दिखाते हुए मौके से दो बाइक को जब्त करते हुए पथराव कर रही एक महिला को गिरफ्तार कर लिया है।हालांकि बालू माफिया बजरंगी यादव इस दौरान बालू लदे ट्रैक्टर को लेकर फरार होने में कामयाब रहा।  मामले की जानकारी मिलते ही अहले सुबह डीएसपी विधि व्यवस्था निसार अहमद खां ने मौका-ए-वारदात पर पहुंचकर जायजा लिया। डीएसपी ने भी घायल  पुलिसकर्मियों से मामले की पूरी जानकारी ली है। इस दौरान डीएसपी ने जांचोपरांत पथराव में संलिप्त लोगों पर सख्त कार्रवाई करने की बात कही है।

Page 1 of 14