Headlines:

Hottest News

विज्ञापन ::

 

 

Monday, 04 February 2019 08:49

प्रोबेशन सजा माफी क्या होती है

Written by
Rate this item
(0 votes)

इस लेख में हम बात करेंगे कि प्रोबेशन सजा माफी क्या होती है| प्रोबेशन सजा माफी एक कानूनी प्रोसेस होती है जिसमे मुजरिम की सजा माफ़ कर उसे सुधरने के लिए अवसर दिया जाता है| सबसे पहले इस प्रोसेस की शुरूआत 1941 में वाटसन K. जॉन ने की थी| इस प्रोसेस मे अच्छे आचरण के आधार पर कुछ चुने हुए कैदियों को मित्रवत संरक्षण के द्वारा सुधारा जाता है| साथ ही उन्हें कुछ नियमो के साथ रिहा किया जाता है| कैदियों को सुधरने और अच्छा जीवन देने केलिए भारतमें प्रोबेशन के संबंध में Probation of Offenders Act 1948 लाया गया|

इस प्रोसेस में ऐसे कैदियो का चुनाव होता है जिन्हें मृत्युदंड या आजीवन कारावास ना मिला हो| इसमे अपराधी के जेल में अच्छे आचरण और अच्छे चरित्र को ध्यान में रखते हुये प्रोबेशन पर छोड़ा सकता है| ऐसे में अपराधी को दंडित करने के बजाय न्यायालय उसे जमानत सहित या जमानत रहित ऐसा बंधपत्र यानी बांडभरवा कर छोड़ सकती है| ऐसे अपराधी जो प्रोबेशन माफी का लाभ लेना चाहते हैं वो उसी न्यायालय में अपील कर सकते है जहां उसे अपराध का दोष सिद्ध पाया गया हो|

कैसे लें प्रोबेशन

यदि कोइ अपराधी प्रोबेशन लेना चाहता है तो वो किसी वकील के मध्यम से कोर्ट में याचिका दाखिल करनी होती है और प्रोबेशन लेने का कारण, व उसकी शर्तो के पालन का कोर्ट को विश्वास दिलाना होता है कोर्ट उस पर विश्वास कर के प्रोबेशन दे देता है प्रोबेशन हमेशा सजा मिलने के बाद ही मिलता है|

प्रोबेशन लेने के लिए उसके नियम और शर्ते जानना भी जरूरी है कि प्रोबेशन किसको मिल सकता है|प्रोबेशन सजा माफ़ी पर अपराधी को छोड़ने का कार्य तो कोर्ट का होता है पर उस छोड़े गये अपराधियों की देखभाल करने व उनकी गतिविधियों पर नियन्त्रण रखने के लिए एक प्रोबेशन अधिकारी की नियुक्ति की जाती है|

प्रोबेशन अधिकारी का काम

प्रोबेशन अधिकारी का काम प्रोबेशन सजा माफ़ी के लिए मुक्त किए गए अपराधी की देखभाल करना और उसके गतिविधियों पर नजर रखना होता है|इसके आलावा वो प्रोबेशन में रखे गए अपराधियों के संबंध में अपेक्षित सूचना या आंकड़े एकत्रत करता है|साथ ही वो अपराधी को पुनः स्थापित होने में सहायता करता है तथा किसी प्रकार की परेशानी आने पर उसकी मदद करता है|

अब जानते हैं प्रोबेशन सजा माफी की शर्ते क्या हैं|

  • प्रोबेशन सजा माफ़ी एक निश्चित समय के लिए ही डी जाती है|
  • प्रोबेशन सजा माफ़ी केवल उन अपराधियों मिलटी है जिन्होंने कोई गंभीर अपराध न किया हो तथा उनका दंड आजीवन कारावास या मृत्युदंड नही हो|
  • प्रोबेशन पर ज्यादातर 21 वर्ष से कम आयु वाले अपराधियों को छोड़ा जाता है
  • प्रोबेशन पीरियड में अपराधी प्रोबेशन अधिकारी की देखरेख में ही रहता है प्रोबेशन अधिकारी का काम है कि वो ये देखे कि वह कोई नया अपराध न कर दे या उस पुराने अपराध को दोबारा ना करें |
  • प्रोबेशन सजा माफ़ी के लिए अपराधी को बोंड भरना होता है जिसमें यह लिखा होता है कि वह शांतिपूर्वक एक अच्छे नागरिक की तरह रहेगा और कोई भी अपराधी कार्य नहीं करेगा|
  • इस पीरियड में अपराधी प्रोबेशन अधिकारी की आज्ञा के बिना अपने रहने के स्थान में कोई परिवर्तन नहीं कर सकता है तथा वह अगर बोंड में या किसी शर्त में किसी क्षेत्र से बांधा गया है कि वह उसको छोड़कर नहीं जाएगा |
  • अपराधी को प्रोबेशन पीरियड में अपने प्रोबेशन अधिकारी से संपर्क बनाए रखना होता है तथा दिए गए समय में वह उस को सूचित भी करता होता है|
  • प्रोबेशन पीरियड में अपराधी को अपने व्यवहार पर नियंत्रण रखना होता है, जैसे कि उससे यह कहा जाता है कि वह देर से घर में नही लौटे तथा गलत आचरण वाले व्यक्ति के संपर्क में न रहे|
  • प्रोबेशन पीरियड में अपराधी प्रोबेशन अधिकारी की आज्ञा के बिना शादी भी नही कर सकता है|

अगर अपराधी इन नियमो और शर्तो का पालन करता है तो निश्चित ही उसे समाज में वापसी करने में आसानी होती है| प्रोबेशन के कैदी और सरकार दोनों के लाभ हैं| अपराधी को नया जीवन शुरू करने का मौक़ा मिलता है, उसकी सजा माफ हो जाती है तो वो जेल के बाहर दूसरे क्रूर कैदियों की संगती से बच जाता है और अपने परिवार के साथ अच्छा जीवन बिता सकता है| सरकार पर भी कैदियों के रख रखाव का खर्च और जेलों में कैदियों के दबाव की कमी से राहत रहती है|

Read 9 times Last modified on Monday, 04 February 2019 04:59