Headlines:

Hottest News

विज्ञापन------------

अंतर जातीय-विवाह का अर्थ होता हैं कि अपने जाति को छोड़ कर किसी अन्य जाति में विवाह करना। वर्तमान समय में लोगों में इस विवाह की प्रतिक्रिया में काफी बदलाव देखने को मिला है। ऐसा इसलिए हुआ हैं क्योंकि इस समय में लोगों ने अपनी इच्छा से शादी करने और हमसफ़र-साथी खोजना शुरु कर दिया हैं। अक्सर अंतर जाति-विवाह प्रेम से ज्यादा संबधित होती हैं। अगर देखा जाए तो अंतर जाति-विवाह की जब भी बात आती हैं तो लोगों में एक अलग ही सा विचार और पारदर्शिता देखने को मिलता हैं। जब कोई भी विवाह अंतर जातीय होती हैं तो इस विवाहित जोडो को बहुत सी समस्याओं को सामना करना पड़ता हैं जैसे- समाज से दूरी, अपने घर से दूर व्यवहार, समाज को आपके और आपके परिवार को हीन भावना से देखते है।जैसे कि आदिकाल में लोगों में अंतर जातीय विवाह करने वाले लोगों को समाज और अपने ही घर से दूर कर देते ताकि इनका गलत प्रभाव दूसरे पे न पड़। उस समय भले ही अंतर जातीय विवाह में कमी देखने को मिलती थी,किंतु दहेज प्रथा जो समाज में ज्यादा देखने को मिलता था। और हम कहे सकते है कि अंतर जातीय विवाह बढ़ने का यह मुख्य करना हो सकता हैं। भारतीय संस्कृति दुनिया की सबसे पुरानी संस्कृति है। इस देश में हमें हमेशा से अपनी संस्कृति से जुड़े रहने और उसका सामना करने का गर्व प्राप्त होते आ रहा हैं। क्योंकि हमारी संस्कृति हमेशा से कुछ ना कुछ सिखाते आ रही हैं।   अंतर जातीय-विवाह से हमारी संस्कृति पे बहुत ज्यादा ही असर पड़ा हैं। देखा जाए तो इस अंतर जातीय-विवाह से लोगों को अपनी संस्कृति से विश्वास उठते जा रहा हैं। कुछ लोगों की वजह से हमारी संस्कृति का मान और सामना खतरे में दिखाई देने लगा हैं, क्याकि उनको न ही तो अपने समाज की और न ही अपनी संस्कृति पर नही विश्वास और नहीं कोई फ़क़ीर हैं। इस विवाह से समाज भी इसलिए गलत मानते हैं क्याकिं इस उनको अपने समाज में अपने जाति, धर्म, ऊँच—नीच,  जोकि उनको समाज में एक अच्छा दर्जा नहीं दिलता हैं। उदाहरण तौर पर हमकहें सकते है कि --- जब कोई विवाहत जोड़ी अपनी जाति या धर्म को छोड़ कर किसी भी अन्य जाति या धर्म से विवाह करता है तो हम इसे अंतर जातीय-विवाह कहते है। पर उसके बाद उसे अपना जाति या धर्म को भुलाना पड़ता है, क्योंकि हमारे जो हमसफ़र है उस अपनी जाति, धर्म और विचार माने वाले है। और उनको नहीं भी पंसद होने के कारण उनको ये पंसद करना पड़ता है और धीरे-धीरे वे अपनी संस्कृति को भुलते जाते है।

बरकट्ठा प्रखंड के विभिन्न क्षेत्रों तथा स्थानों पर साइबर अपराध दिनोंदिन फल फूल रहा है।इस पर पुलिस लगातार कार्रवाई कर रही है, इसके बावजूद भी साइबर अपराधी कम नही हो रहा है। ऐसा ही मामला पुलिस को गुप्त सूचना बुधवार को फिर मिली। थाना प्रभारी राजेन्द्र महतों ने टीम गठित कर विशेष छापामारी अभियान चलाया। जिसमें संदीप प्रसाद उर्फ दीपक प्रसाद 19 वर्ष पिता स्वर्गीय सुरेंद्र महतो साकिन कपका टोला बेलाटांड़ थाना बरकट्ठा जिला हजारीबाग जो एक साइबर अपराधी है, अपने मोबाइल से अवैध रूप से स्कॉक्का एस्कॉर्ट सर्विस वेबसाइट के माध्यम से कई लोगों को अलग-अलग नंबरों से संपर्क कर व्हाट्सएप के जरिए लड़कियों महिलाओं का आपत्तिजनक तस्वीर भेजकर उनसे सर्विस दिलाने के नाम पर ठगी करता है। छापेमारी के दौरान संदीप प्रसाद उर्फ दीपक प्रसाद एवं रंजीत प्रसाद दोनों पिता स्वर्गीय सुरेंद्र महतो को पकड़ा गया। दोनों लड़कों के पास से बरामद मोबाइल को पुलिस ने जांच किया। जांच के दौरान संदीप प्रसाद उर्फ दीपक प्रसाद के मोबाइल से लड़कियों का सर्विस दिलाने के नाम पर मैसेज कर आपत्तिजनक फोटो डालकर पैसा ठगने से संबंधित चैटिंग की पुष्टि हुई है। दोनों से  पूछताछ किया गया जिसमें संदीप प्रसाद अपना अपराध स्वीकार किए। इस संदर्भ में बरकट्ठा थाना कांड संख्या 44/2021 दिनांक 3/03/ 2021 धारा 420 /358 भादावी एवं 66c /67 आईटी एक्ट के अंतर्गत कांड अंकित किया गया ।गिरफ्तार प्राथमिकी अभियुक्त संदीप प्रसाद उर्फ दीपक प्रसाद उम्र 19 वर्ष को विधिवत न्यायालय में हजारीबाग न्यायालय भेजा गया एवं पूछताछ हेतु लाए गए रंजीत प्रसाद पिता सुरेंद्र महतों ग्राम कपका टोला बेलाटंड निवासी का किसी भी प्रकार का ठोस साक्ष्य नहीं मिलने पर इन्हें पीआर बांड पर मुक्त किया गया। बरामद में दो ओप्पो कंपनी का मोबाइल बरामद किया गया।

जयनगर प्रखंड के ग्राम पंचायत गड़गी (महुवादोहर) निवासी भोला भुइँया के पुत्र सुरेश भुइँया (उम्र 30 वर्ष) को जंगली हाथीयों का झुंड ने कुचलकर मार डाला,  वहीं शाहिद अंसारी उम्र 25 वर्ष को घायल कर दिया। सूचना बरकट्ठा के लोकप्रिय पूर्व विधायक श्री जानकी प्रसाद यादव जी के पास गया। सूचना मिलते ही घटनास्थल पर पहुंचकर मृतक के परिवार को वन  विभाग रेंज ऑफिसर के द्वारा 50,000 रुपये नगद दिलाया तथा घायल व्यक्ति को इलाज हेतु 13500 रुपया दिलाया। पूर्व विधायक श्री यादव ने विभाग से मांग किया कि मृतक के परिवार को दस लाख रुपया और मृतक के परिवार में एक सरकारी नौकरी दें साथ ही साथ घायल व्यक्ति को इलाज में जितना खर्च होगा वह भी दे। रेंज ऑफिसर ने आश्वासन दिया है कि घायल व्यक्ति को इलाज में जितना खर्च होगा मैं अपने विभाग से दूंगा। पूर्व विधायक ने फिर से एक बार सरकार और जिला प्रशासन से मांग किया है सतड़िहा पंचायत के कारनोसरनो, जरियाय तथा खरियोडीह पंचायत खरपुका में एवं बरकट्ठा विधानसभा क्षेत्र के दो दर्जन गाँव मे हाथियों ने गेंहू, खेसारी, अरहर तथा गन्ना के खेती को भारी नुकसान पहुँचाया है।ग्रामीणो के रातो का नींद गायब हो चुका है, उन्हें असुरक्षित महसूस हो रहा है, सरकार को चाहिए कि हाथियों को भगाने के लिए एक स्पेशल टीम बुलाकर इन्हें अन्यत्र जगह ले जाएं। ताकि लोग  रातो को आराम से सो सके। पूर्व विधायक ने कहा कि हाथियों के झुंड ने जो फसलों को नष्ट किया है, विभाग उसका सर्वेक्षण कर एक सप्ताह के अंदर मुआबजा की राशि किसानों को  दें, अन्यथा हम सब बाध्य होकर भयंकर जन-आंदोलन करेंगे। मौके पर प्रखण्ड प्रमुख जयप्रकाश राम, जीप सदस्य प्रतिनिधि केदारनाथ यादव, भाजपा नेता महावीर यादव, झामुमो नेता राजकुमार पासवान, रामजी यादव, युवा नेता आलोक सिंह मुखिया गड़गी लाखपत यादव, मुखिया कटिया हिन्दकिशोर राम, मुखिया अजय यादव,  मुखिया प्रतिनिधि रूपायडीह भोला यादव, वरिष्ठ नेता झामुमो भोला राम, पूर्व मुखिया राजकुमार राम, रहमान खान, मनोहर चौधरी, पूर्व पंसस अजय यादव, कुमार मोदी, महेंद्र राय, के.डी यादव, विनोद यादव, सोनू खान, संतोष यादव, संजय गुप्ता आदि सैकड़ो लोग उपस्थित थे।

झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी सहकारिता विभाग से बरकट्ठा विधानसभा अध्यक्ष खालीद खान, बरकट्ठा विधानसभा उपाध्यक्ष मिनहाज अहमद तथा बरही विधानसभा अध्यक्ष तौकीर अंसारी बरही डीएसपी नजीर अख्तर से मिले और फूलों के गुलदस्ते से संबोधित किया तथा अपनी बात रखी। उन्होंने यह बात रखी  कि हम लोग गरीब जनता के भलाई के लिए कुछ न कुछ सोचते रहते हैं जिससे गरीब जनता की भलाई हो और उसमें आपको हमरा साथ देना होगा। इस बात पर डीएसपी नजीर अख्तर ने बताएं कोई भी तरह की मामला में मुखिया तथा सरपंच के अंदर निपटारा करवाने का कोशिश करें थाना तक मामला ना आए इसके लिए सोचे और समस्या का समाधान करें, क्योंकि थाना में मामला पहुंचने के बाद मामला कोट तक पहुंच जाती है जिससे गरीब लोगो को बहुत दिक्कतो का सामना करना पड़ता है।

बरकट्ठा प्रखंड के ग्राम मेरमगड्डा में श्री श्री दुर्गा शप्तशती महायज्ञ कलश यात्रा का उदघाटन किया गया । जोकि बरकट्ठा के लोकप्रिय पूर्व विधायक श्री जानकी प्रसाद यादव ने फीता काटकर उद्घाटन किया।पूर्व विधायक श्री जानकी यादव जी ने कहा कि भगवान को निर्मल मन से भक्ति करने वाले भक्त बहुत ही प्रिय होते हैं। छल और कपट करने वालों को परमात्मा की कृपा नहीं मिलती है। इस संसार में परमात्मा की शरण ही सच्ची शरण है। यज्ञ होने से आस-पास का वातावरण शुद्ध होता है।मौके पर पहुंचे भाजपा नेता राजकुमार नायक, कोनहारा खुर्द के मुखिया रघुनाथ सिंह, वीरेंद्र शर्मा, प्रमोद पासवान, विनोद पासवान, त्रिलोकी मंडल, लालमोहन प्रसाद, डॉ दुर्गी लाल, सती सिंह, किशोर पासवान, बालेश्वर पासवान, सीमंतो प्रजापति, सुखदेव मांझी, बबुन मांझी, मोहन रविदास तथा सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण लोग उपस्थित थे।

प्राप्त सूचना के अनुसार बरकनगांगो गांव में हाथी ने एक पुरुष एवं एक महिला को अपनी चपेट में लिया।पुरुष का शव बरामद एवं महिला अभी तक लापता है।बरकट्ठा प्रखंड के बरकन गांगो जंगल में कल शाम को दो महिला लकड़ी लाने गई थी हाथियों के झुंड से बिछड़ा एक हाथी उसी जंगल में मौजूद था हाथी का नजर पढ़ते ही इन दोनों महिला को दौड़ाया। दौड़ने के दरमियान एक महिला भागने में सफल हुई भागकर अपना बस्ती आ गई दूसरी महिला भागकर आने में असफल रही । उसी के खोज में गए बलराम पासवान को रात में हाथी ने मार डाला दूसरी महिला अभी तक लापता है।

कृषि मंत्री द्वारा झारखंड कृषि ऋण माफी योजना निकाला गया जिसमें किसानों को झारखंड कृषि ऋण वापस देना नहीं पड़ेगा।बरकट्ठा ब्लॉक परिसर में कृषि ऋण माफी का टेम्पो द्वारा हर एक गांव में प्रचार करवाया गया। जिसमें अंचल अधिकारी श्री निर्मल सोरेन प्रखंड विकास पदाधिकारी श्रीमती कृति बाला लकड़ा ने बताया की पिछले कई वर्षों से राज्य में मानसून की अनियमित रहने से किसान सूखाड, ओलावृष्टि एवं अन्य प्राकृतिक आपदा के शिकार हुए हैं। कम उत्पादन होने से उनकी आय प्रभावित हुई ऐसा पाया गया कि किसान बकाया फसली ऋण चुकाने में असमर्थ हो रहे हैं । जिस कारण फसल ऋण खाते एनपीए में परिवर्तित हो रहे हैं ।बकाया  ऋण राशि नहीं चुकाने के कारण नए फसल ऋण या अन्य ऋण के लिए अयोग्य होने जा रहे हैं ।उन पर कर्ज का बोझ बढ़ रहा है ।इसके कारण वे खेती से गैर कृषि गतिविधि के लिए राज्य से बाहर पलायन के लिए बाध्य हो रहे हैं। वर्तमान में सरकार 1 वर्ष पूरा होने के उपलक्ष्य में 29,12,2020 को माननीय मुख्यमंत्री झारखंड सरकार द्वारा कृषि  योजना का शुभारंभ किया गया । इस मौके पर उपस्थित मिनहाज अहमद, संजय कुमार, राजेश कुमार, सुनील श्रीवास्तव तथा अंचल में पहुंचे कई लोग शामिल होकर कृषि ऋण माफी योजना को सफल बनाने के लिए समर्थन किए।

बरकट्ठा प्रखंड के गइपहाड़ी पंचायत से रामानंद कुमार सागर ने बताया यह किसान आंदोलन है षड्यंत्र नहीं अगर षड्यंत्र रहता तो सभी जगह के किसान धरना प्रदर्शन पर नहीं रहते।बरकट्ठा से अनंत कुमार पांडेय जी ने कहा किसान आंदोलन पूरी तरह से आंदोलन है।लेकिन इसमें कुछ उपद्रवियों ने आंदोलन कर्ताओं के बीच में घुसकर षड्यंत्र रचने और  किसान आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश की लेकिन इस बात की जानकारी किसानो को हुई तो उसे आंदोलन से बाहर निकाला ।बरकट्ठा प्रखंड के इचाक बाजार से युवा नेता (आदर्श युवा संगठन केंद्रीय अध्यक्ष)गौतम कुमार ने बताया कि आंदोलन का आरंभ जब भी होता है वास्तविक बिंदु पर होता है। किसान आंदोलन राकेश टिकैत का सबसे अच्छा आंदोलन है। लेकिन राजनीतिक पार्टियां इसे मुद्दा बनाकर अपना चेहरा चमका रही है।बरकट्ठा प्रखंड के घंघरी पंचायत से पंकज मद्धेशिया ने बताया कि वास्तविक में आंदोलन है। अगर यह आंदोलन नहीं होता तो एक-दो दिन में धरना प्रदर्शन खत्म हो जाता। इस कानून में कहीं ना कहीं त्रुटि है इस वजह से या आंदोलन चल रहा है।बरकट्ठा प्रखंड के चलकुस्सा ब्लॉक से खालिद खान ने कहा इस आंदोलन में कई राज्य के किसान शामिल है यह वास्तविक में आंदोलन है हम सभी लोगों को किसानों का समर्थन करना चाहिए और इस काले कानून का विरोध करना चाहिए।

Page 1 of 16